Best Two Line Shayari in Hindi | 1000+ हिंदी शायरी दो लाइन

Two Line Shayari | 1000+ Two Line Shayari in Hindi | Short Shayari in Hindi | हिंदी शायरी दो लाइन

In this post you will read more than 1000 Two Line Shayari | Two Line Shayari in Hindi and हिंदी शायरी दो लाइन | Enjoy Short Shayari in Hindi and Share with your Friends.

मौत आई तो क्या मैं मर जाऊँगा?

मैं तो इक दरिया हूँ, जो समंदर में मिल जाऊँगा.


नाकामियों ने और भी सरकश बना दिया,

इतने हुए जलील, की खुददार हो गए…


Two Line Shayari | हिंदी शायरी दो लाइन
Two Line Shayari

उसको रुखसत तो किया था, मुझे मालून न था.

सारा घर ले गया, छोड़ के जाने वाला…..


Read -> Happy Diwali Wishes


उसके होंठों पे कभी बददुआ नहीं होती ,

बस इक माँ है जो मुझसे कभी खफा नहीं होती.


 

Must Read


सर पर चढ़कर बोल रहे हैं, पौधे जैसे लोग,

पेड़ बने खामोश खड़े हैं, कैसे-कैसे लोग…..


Two Line Shayari in Hindi
Two Line Shayari in Hindi

जो चीज़ उन्होंने ख़त में लिखी थी, नहीं मिली.

ख़त हमको मिल गया है, तस्सली नहीं मिली…..


अकेले बैठोगे, तो मसले जकड लेंगे.,

ज़रा सा वक़्त सही , दोस्तों के नाम करो…..


ज़िन्दगी के मायने तो याद तुमको रह जायेंगे ,

अपनी कामयाबी में कुछ कमी भी रहने दो….


हिंदी शायरी दो लाइन
हिंदी शायरी दो लाइन

मैंने उसका हाथ थमा था राह दिखने को,

अब ज़माने को दर्द हुआ तो मैं क्या करूँ ?


किसी को मकां मिला,किसी के हिस्से में दुकां आई,

मैं घर में सबसे छोटा था,मेरे हिस्से में माँ आई…..


Short Shayari in Hindi

मुझको थकने नहीं देता , ये ज़रुरत का पहाड़.

मेरे बच्चे मुझे बूढा होने नहीं देते……


गम बिछड़ने का नहीं करते खानाबदोश ,

वो तो वीराने बसाने का हुनर जानते हैं…….


Short Shayari in Hindi
Short Shayari in Hindi

प्यार अपनों का मिटा देता है , इंसान का वजूद ,

जिंदा रहना है तो गैरों की नज़र में रहिये…….


  Also Read – Jokes


रंजिश ही सही , दिल को दुखाने के लिए आ,

आ फिर से मुझे , छोड़ जाने के लिए आ…..


“वो खुदगर्ज हो गए तो मै क्या करू

मुझे उनकी वफा भुलाई नही जाती”


बड़े बेआबरू होकर तेरे कूचे से हम निकले..

बहुत निकले मगर मेरे अरमान दिल से

लेकिन कम निकले..


“”दिल-इ-नादान तुझे हुआ क्या है..आखिर इस दर्द की दवा क्या है..

हमको उनसे से वफ़ा की उम्मीद ..जो नहीं जानते वफ़ा क्या है..””


हर एक बात पे कहते हो तुम की तू क्या है,

तुम्ही कहो की ये अंदाज-ए-गुफ्तगुं क्या है!


Two Line Shayari

हज़ारों ख्वाहिशें ऐसी की हर ख्वाहिश पे दम निकले ,

बहुत निकले मेरे अरमां मगर फिर भी कम निकले !


जला है जिस्म जहाँ , दिल भी जल गया होगा ,

कुरेदते हो जो अब राख जुस्तजूं क्या है!


प्यार,,,,प्यार भी कभी पूरा होता है?

इसका तो पहला अक्षर ही अधूरा होता है.


कही से सुना था उसने, की जीवन काँटों भरा होता है,

तब से सदा वो दूसरों के जीवन में कांटे बोता है…..


कौन कहता ही की छेद आसमां में हो नहीं सकता,

इक पत्थर तो तबियत से उछालो यारों…….


मेहरबान होकर बुला लो मुझे जिस वक़्त,

मैं गया वक़्त नहीं की फिर आ भी ना सकूँ…..


रस्ते को भी दे दोष , आँखें भी कर लाल,

चप्पल में जो कील है , पहले उसे निकाल…..


कोई इसके साथ है , कोई उसके साथ है ,

देखना ये चाहिए , मैदान किसके हाथ है…..


काश बनाने वाले ने दिल कांच के बनाये होते.


खुद को पढता हूँ, फिर छोड़ देता हूँ,

रोज़ ज़िन्दगी का एक हर्फ़ मोड़ देता हूँ…


दुश्मनी का सफ़र एक कदम दो कदम,

तुम भी थक जाओगे, हम भी थक जाएंगे…..


जाती है धूप उजले परों को समेट के,

ज़ख्मों को अब गिनूंगा मैं बिस्तर पे लेट के…..


Short Shayari in Hindi

कांच की गुडिया ताक में कब तक सजाये रखेंगे,

आज नहीं तो कल टूटेगा, जिसका नाम खिलौना है…..


दिल की ना रह दिल में, ये कहानी कह लो,

चाहे दो हर्फ़ लिखो,चाहे जबानी कह लो.


मैंने मरने की दुआ मांगी,जो पूरी ना हुयी,

बस इसी को मेरे जीने की कहानी कह लो…….


दुश्मनों के साथ मेरे दोस्त भी आज़ाद है,

देखना है , फेंकता है मुझ पर पहला तीर कौन….


मैंने कहा कभी सपनो में भी शक्ल ना मुझको दिखाई,

उसने कहा, मुझ बिन भला तुझको नींद ही कैसे आई?


मुझ में तुझ में फर्क नहीं,मुझ में तुझ में फर्क है ये ,

तू दुनिया पर हँसता है,दुनिया मुझ पर हंसती है…..


हिंदी शायरी दो लाइन

दिल मुझे तितली का टूटा हुआ पर लगता है,

अब तेरा नाम भी लिखते हुए डर लगता है…..


ज़िन्दगी से जो भी मिले , सीने से लगा लो,

गम को सिक्के की तरह उछाला नहीं करते……


साहिल से सकूँ से किसे इनकार है लेकिन,

तूफ़ान से लड़ने में मज़ा ही कुछ और है…..


मेरे गम ने होश उनके भी खो दिए,

वो समझाते-सम्झाते खुद ही रो दिए…..


जनम मरण का साथ था जिनका, उन्हें भी हमसे बैर,

वापिस ले चल अब तो हमे, हो गयी जग की सैर..


Two Line Shayari

अपने ही साए में था, मैं शायद छुपा हुआ,

जब खुद ही हट गया, तो कही रास्ता मिला…..


आज आगोश में था और कोई ,

देर तक हम तुझे न भुला सके


जिंदगी में खूब कमाया , क्या हीरे क्या मोती ,

क्या करूँ मगर कफ़न में जेबें नहीं होती……


जवानी जाती रही और हमें पता भी ना चला ,

उसी को ढूंढ रहे हैं , कमर झुकाए हुए,,,,


वो अपने आप को बेहतर शुमार करता है ,

अजीब शख्स है , अपना ही शिकार करता है…..


ले के उस पार ना जायेगी जुदा राह कोई ,

भीड़ के साथ ही दलदल में उतरना होगा…..


अँधेरा कब्र का इतने में ही खुश है ,

की जलता है कोई ऊपर दिया तो..


बस इतनी सी बात पे दुनिया गिनती है नादानों में ,

प्यार की गर्मी ढूंढ रहा हूँ , बर्फीली चट्टानों में….


सफ़र में मुश्किलें आयें, तो जुर्रत और बढती है ,

कोई जब रास्ता रोके , तो हिम्मत और बढती है….


हादसों की ज़द में हैं तो मुस्कुराना छोड़ दें ,

जलजलों के खौफ से क्या घर बनाना छोड़ दें ?


हिंदी शायरी दो लाइन

तुम दूर..बहुत दूर हो मुझसे..

ये तो जानता हूँ मैं…

पर तुमसे करीब मेरे कोई नही है..

बस ये बात तुम याद रखना…


नज़रों से दूर सही दिल के बहुत पास है तू..

बिखरी हुई इस ज़िन्दगी में मेरे जीने की आस है तू..


वो मेरी हर दुआ में शामिल था,

जो किसी और को बिन मांगे मिल गया


तुम थोड़ी सी ‪फुलझड़ी‬ क्या हुई..

पूरा मौहल्ला ही ‪माचिस‬ हो गया..


काश तुझे सर्दी के मौसम मे लगे मुहब्बत की ठंड,

और तू तड़प कर माँगे मुझे कम्बल की तरह..!


कहाँ ढूँढ़ते हो तुम इश्क़ को ऐ-बेखबर

ये खुद ही ढून्ढ लेता है जिसे बर्बाद करना हो ..


मैने कहा बडी तीखी‬ मिर्च होयार तुम..!!

वो.. मेरे होठचुम करबोलीऔर अब!!


बचपन में तो शामें भी हुआ करती थी,

अब तो बस सुबह के बाद रात हो जाती है!


मोहब्बत भी ठंड जैसी है,

लग जाये तो बीमार कर देती है..


जादू वो लफ़्ज़ लफ़्ज़ से करता चला गया

और हमने बात बात में हर बात मान ली


हम बने ही थे तबाह होने के लिए..

तेरा छोड़ जाना तो महज़ इक बहाना था.!!


खेल ताश का हो या जिंदगी का,

अपना इक्का तब ही दिखाना जब सामने बादशाह हो ।


मुझे क़बूल है.. हर दर्द.. हर तकलीफ़ तेरी चाहत में..

सिर्फ़ इतना बता दो.. क्या तुम्हें मेरी मोहब्बत क़बूल है..?


Two Line Shayari

दुनिया खरीद लेगी हर मोड़ पर तुझे…

तूने जमीर बेचकर अच्छा नहीं किया..


मैं खुद भी अपने लिए अजनबी हूं ..

मुझे गैर कहने वाले.. तेरी बात मे दम है.


कभी आपको याद आई कभी हमने याद किया..

खैर छोड़ो ये बेकार सियासत चलो आओ बात करें


ज़िन्दगी में कई ऐसे लोग भी मिलते हैं

जिन्हें हम पा नहीं सकते सिर्फ चाह सकते हैं..


सच के रास्ते पे चलने का.. ये फ़ायदा हुआ,

रास्ते में कहीं भीड़ नहीं थी ।


एक उमर बीत चली है तुझे चाहते हुए,

तू आज भी बेखबर है कल की तरह..


जब नफ़रत करते करते थक जाओ..।

तो एक मौका प्यार को भी दे देना।।


खामोशियाँ – बहुत कुछ कहती हैं,

कान नही दिल लगा कर सुनना पड़ता है..


मैंने उसे बोला ये आसमान कितना बड़ा है ना,

पगली ने गले लगाया और कहा इससे बड़ा तो नहीं..


देखते हैं अब क्या मुकाम आता है साहेब,

सूखे पत्ते को इश्क़ हुआ है बहती हवा से..!!


मैने जो पुछा उनसे कि.. यूँ बात बात पे रूलाते क्युँ हो..

वो बङे प्यार से बोली, मुझे बहता हुआ पानी बेहद पंसद है.


शायरी लिखना बंद कर दूंगा अब मैं यारो..

मेरी शायरी की वजह से दोस्तों की आँखों में आंसू अब देखे नहीं जाते..!!


जाते जाते उसने पलटकर सिर्फ इतना कहा मुझसे,

मेरी बेवफायी से ही मर जाओगे या मार के जाऊ!!


ठहर सके जो.. लबों पे हमारे,

हँसी के सिवा, है मजाल किसकी.


तुम पल भर के लिए दूर क्या जाते हो,

तो हम ‘बिखरने’ से लगते हैं..


दोस्तो से अच्छे तो मेरे दुश्मन निकले,,

कमबख्त हर बात पर कहते हैं कि तुझे छोडेंगे नहीं.


वहीँ तारीख वहीँ दिन वहीँ समा बस वो लोग नहीं

जिन्होंने बना दिया यादगार हर लम्हा.


Two Line Shayari in Hindi

जींदगी गुझर गई सारी कांटो की कगार पर,

और फुलो ने मचाई है भीड़ हमारी मझार पर!!


सुनो तुम मेरी जिद नहीं जो पूरी हो…

तुम मेरी धड़कन हो जो जरुरी हो..


और कितने इम्तेहान लेगा वक़्त तू

ज़िन्दगी मेरी है फिर मर्ज़ी तेरी क्यों


यकीन नहीं होता फिर भी कर ही लेता हूँ…

जहाँ इतने हुए एक और फरेब हो जाने दो…


जो लम्हा साथ हैं, उसे जी भर के जी लेना.

कम्बख्त ये जिंदगी.. भरोसे के काबिल नहीं है.!


तुम भी अच्छे … तुम्हारी वफ़ा भी अच्छी,

बुरे तो हम है जिनका दिल नहीं लगता तुम्हारे बिना…


सुनो! बार बार मेरी ‪‎प्रोफाइल‬ खोल के ‪#तस्वीर‬ ना देखा करो…

नज़र ‪‎मोहब्बत‬ की होगी तो नज़र लग जाऐगी !!‪


मुस्कुरा देता हूँ अक्सर देखकर पुराने खत तेरे,,,

तू झूठ भी कितनी सच्चाई से लिखती थी..


दिसम्बर क्या आया, रह गये दोनो अकेले

एक मै दुसरा वो कैलेण्डर का पेज आखरी


सपने तो बहुत आये पर, तुमसा कोई सपनों मे न आया।

फिजा मे फूल तो बहुत खिले पर, तुमसा फूल न मुसकुराया ॥


मन्जिले मुझे छोड़ गयी रास्तों ने सभाल लिया है..!!

जा जिन्दगी तेरी जरूरत नहीं मुझे हादसों ने पाल लिया है.


भूल कर भी अपने दिल की बात किसी से मत कहना,

यहाँ कागज भी जरा सी देर में अखबार बन जाता है!


चुभता तो बहुत कुछ मुझको भी है तीर की तरह..

मगर खामोश रहता हूँ, अपनी तकदीर की तरह..


Two Line Shayari

ताकत की जरूरत तब होतीं हैं जब कुछ बुरा करना हों ..

वरना दुनियाँ में सब कुछ पाने के लिए प्यार ही काफ़ी हैं …!!


चाहो तो छोड़ दो.. चाहो तो निभा लो..

मोहब्बत तो हमारी है.. पर मर्जी सिर्फ तुम्हारी है..!!!


हम तो पागल है जो शायरी में ही दिल की बात कह देते है..

लोग तो गीता पे हाथ रखके भी सच नहीं बोलते !!


ना किया कर अपने दर्द को शायरी में ब्यान ये नादान दिल,

कुछ लोग टुट जाते हैं इसे अपनी दास्तान समझकर…


तेरी यादो को पसन्द आ गई है मेरी आँखों की नमी,

हँसना भी चाहूँ तो रूला देती है तेरी कमी…!!


रोने की वजह न थी हसने का बहाना न था

क्यो हो गए हम इतने बडे इससे अच्छा तो वो बचपन का जमाना था!


किसी ने कहा था महोब्बत फूल जैसी है!!

कदम रुक गये आज जब फूलों को बाजार में बिकते देखा!


जो दिल को अच्छा लगता है उसी को दोस्त कहता हूँ,

मुनाफ़ा देखकर रिश्तों की सियासत नहीं करता ।।।


हिंदी शायरी दो लाइन

ना कर तू इतनी कोशिशे, मेरे दर्द को समझने की….

तू पहले इश्क़ कर, फिर चोट खा, फिर लिख दवा मेरे दर्द की….


जिस घाव से खून नहीं निकलता,

समझ लेना वो ज़ख्म किसी अपने ने ही दिया है.


तुम रख न सकोगे, मेरा तोहफा संभालकर,

वरना मैं अभी दे दूँ, जिस्म से रूह निकालकर…!


अपने वजूद पर इतना न इतरा … ए ज़िन्दगी.

वो तो मौत है जो तुझे मोहलत देती जा रही है ।


वही हुआ न तेरा दिल, भर गया मुझसे…

कहा था न ये मोहब्बत नहीं हैं, जो तुम करती हो…!!


क्या कशिश थी उस की आँखों में.. मत पूछो.

मुझ से मेरा दिल लड़ पड़ा मुझे यही चाहिये…??


प्यार मोहब्बत चाहत इश्क़ जिन्दगी उल्फ़त ,

एक तेरे आने से कितना बदल गई किस्मत।


मेरे साथ बैठ कर वक़्त भी रोया

एक दिन बोला बन्दा तू ठीक है मैं ही ख़राब चल रहा हूँ .


उम्र बीत गयी पर एक जरा सी बात समझ नही आई..!!

हो जाये जिन से मोहब्बत वो लोग कदर क्यों नही करते..!!


Short Shayari in Hindi

उम्र बीत गयी पर एक जरा सी बात समझ नही आई..!!

हो जाये जिन से मोहब्बत वो लोग कदर क्यों नही करते..!


मुझे तो आज पता चला कि मैं किस क़दर तनहा हूँ

पीछे जब भी मुड़ कर देखूं तो मेरा साया भी मुँह फेर लेता है…!


जब जिन्दा थे तो बेबुनियाद आरोप लगाती रही,

जब कब्र में सोये तो ‘शख्स बडा लाजबाब था


आज मैंने दिल को थोड़ा साफ़ किया,

कुछ को भूला दिया, कुछ को माफ़ किया!!


मुझे हराकर कोई मेरी जान भी ले जाए मुझे मंजुर है..!! .

लेकिन धोखा देने वालों को मै दुबारा मौका नही देता..!


इश्क की चोट का कुछ दिल पे असर हो तो सही,

दर्द कम हो कि ज्यादा हो, मगर हो तो सही…।


मोहब्बत की आजतक बस दो ही बातें अधूरी रही,

इक मै तुझे बता नही पाया, और दूसरी तूम समझ नही पाये..


बड़े अजीब से हो गए रिश्ते आजकल..

सब फुरसत में हैं पर वक़्त किसी के पास नही.


तेरा नजरिया मेरे नजरिये से अलग था…

शायद तूने वक्त गुजारना था और हमे सारी जिन्दगी..


वाह रे इश्क़ तेरी मासूमियत का जवाव नहीं.।।

हँसा हँसा कर करता है बर्बाद तू मासूम लोगो को.।।


ना मैं शायर हूँ ना मेरा शायरी से कोई वास्ता,

बस शौक बन गया है, तेरी यादो को बयान करना


फरिश्ते आकर उनके जिस्म पर खुशबू लगाते थे !

वो बच्चे रेल के डिब्बों में अब झाडू लगाते हैं !!


Two Line Shayari

जिन्हें पता है कि अकेलापन क्या होता है, वो लोग

दूसरों के लिए हमेशा हाजिर रहते हैं..!!


तमन्नाओ की महफ़िल तो हर कोई सजाता है,

पूरी उसकी होती है जो तकदीर लेकर आता है..!!


रूठा अगर तुझसे तो इस अंदाज से रूठूंगा ,

तेरे शहर की मिट्टी भी मेरे बजूद को तरसेगी


हम लाए हैं तूफान से किश्ती निकाल के,

इस देश को रखना मेरे बच्चों सम्भाल के


जिम्मेदारियां बांध देती हैं अपना शहर न छोड़नेको..

वरना कौन तरक्की की सीढीयां चढ़ना नहीं चाहता..


क्या होता है ‪‎ठंड‬ मे,

शीत लहर से ‪हाल‬!

जिनके सर पर ‪छत‬ नही,

उनसे करो ‪सवाल‬!!


एक सिगरेट सी मिली तू मुझे..

ए आशिकी कश एक पल का लगाया था लत उम्र भर की लग गयी।


जी करता है चला जाऊं, हसीनों की महफिल में..

पर क्या करूं ये मेरे दोस्तो, उतना दम ही नहीं है दिल में।।


एक तु मिल जाती तो किसी का कया चला जाता..

तुझे उमर भर के लिए खुशीयाँ ही खुशीयाँ और मुझको मेरा खुदा मिल जाता।


बहुत थे मेरे भी इस दुनिया मेँ अपने,

फिर हुआ इश्क और हम लावारिस हो गए..!


मुझ पर सितम करो तो तरस मत खाना..

क्योकि खता मेरी हैं मोहब्बत मैंने किया हैं।


वो तो अपनी एक आदत को भी ना बदल सका..

जाने क्यूँ मैंने उसके लिए अपनी जिंदगी बदल डाली


बेवफा कहने से पहले मेरी रग रग का खून निचोड़ लेना..

कतरे कतरे से वफ़ा ना मिले तो बेशक मुझे छोड़ देना।


दो ‪‎लव्ज‬ क्या लिखे तेरी ‪याद‬ मे..

लोग कहने लगे तु आशिक‬ बहुत पुराना है।


सौदा कुछ ऐसा किया है तेरे ख़्वाबों ने मेरी नींदों से..

या तो दोनों आते हैं, या कोई नहीं आता..


कमाल का जिगर रखते है कुछ लोग,

दर्द पढ़ते है और आह तक नहीं करते।


Two Line Shayari in Hindi

सुना था.. मोहब्बत मिलती है, मोहब्बत के बदले |

हमारी बारी आई तो, रिवाज हि बदल गया ||


सुनो! या तो मिल जाओ, या बिछड जाओ,

यू सासो मे रह कर बेबस ना करो|


तुझ से रूठने का हक है मुझ को..

पर मुझ से तुम रूठो यह अच्छा नहीं लगता|


हिंदी शायरी दो लाइन

हजारों चेहरों में एक तुम ही पर मर मिटे थे..

वरना.. ना चाहतों की कमी थी और ना चाहने वालों की..!


एक सफ़र ऐसा भी होता है दोस्तों,

जिसमें पैर नहीं दिल थक जाता है…!!


तुझको लेकर मेरा ‪ख्याल‬ नहीं ‪बदलेगा‬..

‪साल‬ बदलेगा, मगर ‪दिल‬ का ‪हाल‬ नहीं बदलेगा|


अगर लोग यूँ ही कमिया निकालते रहे तो,

एक दिन सिर्फ खुबिया ही रह जायेगी मुझमे !


उसने चुपके से मेरी आँखों पर हाथ रखकर पूछा…बताओ कौन ???

मैं मुस्कराकर धीरे से बोला… “मेरी जिन्दगी


मै नासमझ ही सहीं मगर वो तारा हूं..

जो तेरी एक ख्वाहिश के लिये..सौ बार टूट जाऊं|


मैं ख़ामोशी तेरे मन की, तू अनकहा अलफ़ाज़ मेरा..

मैं एक उलझा लम्हा, तू रूठा हुआ हालात मेरा |


Two Line Shayari

जागना भी कबूल हैं तेरी यादों में रात भर,

तेरे एहसासों में जो सुकून है वो नींद में कहाँ |


तेरे एहसासों में जो सुकून है..

वो नींद में कहाँ ..


अजीब किस्सा है जिन्दगी का,

अजनबी हाल पूछ रहे हैं और अपनो को खबर तक नहीं..


ये जो हालात हैं एक रोज सुधर जायेंगे..

पर कई लोग मेरे दिल से उतर जायेंगे..


मुजे ऊंचाइयों पर देखकर हैरान है बहुत लोग..

‪‎पर‬ किसी ने मेरे पैरो के छाले नहीं देखे..


हिंदी शायरी दो लाइन

मिठास रिश्तों कि बढाए तो कोई बात बने..

मिठाईयाँ तो हर साल मीठी ही बनती है..


अपनी जिंदगी अजीब रंग में गुजरी है..

राज किया दिलों पे और तरसे मोहब्बत को..


बेवक्त बेवजह बेसबब सी बेरुखी तेरी,

फिर भी बेइंतहा तुझे चाहने की बेबसी मेरी !


वहम से भी अक्सर खत्म हो जाते हैं कुछ रिश्ते..

कसूर हर बार गल्तियों का नही होता..


किसकी खातिर अब तु धड़कता है ऐ दिल..

अब तो कर आराम, कहानी खत्म हुई !


तुझे पाना.. तुझे खोना.. तेरी ही याद मेँ रोना

ये अगर इश्क है.. तो हम तनहा ही अच्छेँ हैँ.!!


कभी किसी के जज्बातों का मजाक ना बनाना.

ना जाने कौन सा दर्द लेकर कोई जी रहा होगा..


Short Shayari in Hindi

कुछ तो है जो बदल गया जिन्दगी में मेरी

अब आइने में चेहरा मेरा हँसता हुआ नज़र नहीं आता…


उमर बीत गई पर एक जरा सी बात समझ में नहीं आई

हो जाए जिनसे महोब्बत, वो लोग कदर क्यूं नहीं करते


यूँ तो कोई शिकायत नहीं मुझे मेरे आज से,

मगर कभी-कभी बीता हुआ कल बहुत याद आता है…


Two Line Shayari in Hindi

अपने हर लफ्ज़ में कहर रखते हैं हम,

रहें खामोश फिर भी असर रखते हैं हम..


बडी अजीब मुलाकातें होती थी हमारी,

वो किसी मतलब से मिलते थे और हमे तो सिर्फ मिलने से मतलब था…


हिंदी शायरी दो लाइन

अब ये न पूछना की . . ये अल्फ़ाज़ कहाँ से लाता हूँ

कुछ चुराता हूँ दर्द दूसरों के, कुछ अपना हाल सुनाता हूँ


तूफान भी आना जरुरी है जिंदगी में तब जा कर पता चलता है की

कौन हाथ छुड़ा कर भागता है और कौन हाथ पकड़ कर


वो जिसकी याद मे हमने खर्च दी जिन्दगी अपनी।

वो शख्श आज मुझको गरीब कह के चला गया ।।


हिंदी शायरी दो लाइन

क्या नाम दूँ मैं अपनी मोहब्बत को..

कि ये तेरा सिवा किसी और से होती ही नहीं..!! ‪


कौन कहता है संवरने से बढ़ती है खूबसूरती…

दिलों में चाहत हो तो चेहरे यूँ ही निखर आते है..!!


जिसको तलब हो हमारी, वो लगाये बोली,

सौदा बुरा नहीं… बस “हालात” बुरे है..!!


मैं भी खरीददार हूं मैं भी खरीदूंगा..

प्यार कहां बिकता है पता बताना यारों..!!


उन लोगों की उम्मीदों को कभी टूटने ना दे..!!

जिनकी आखरी उम्मीद सिर्फ आप ही है..!!


झूठ बोलने का रियाज़ करता हूँ सुबह और शाम मैं

सच बोलने की अदा ने हमसे कई अजीज़ यार छीन लिये|


बस तुम्हेँ पाने की तमन्ना नहीँ रही..

मोहब्बत तो आज भी तुमसे बेशुमार करतेँ हैँ.!!


इन्सान सब कुछ कॉपी कर सकता है,

लेकिन किस्मत और नसीब नही..


कभी रजामंदी,

तो कभी बगावत है इश्क..

मोहब्बत राधा की है,

तो मीरा की इबादत है इश्क..!! ?


Two Line Shayari in Hindi

नहीं मांगता ऐ खुदा कि,

जिंदगी सौ साल की दे..

दे भले चंद लम्हों की,

लेकिन कमाल की दे..!!! ?


किताबें भी बिल्कुल मेरी तरह हैं

अल्फ़ाज़ से भरपूर मगर ख़ामोश..!!


गरीब का दर्द

सुला दिया माँ ने…ये कहकर..!

परियां आएंगी सपनों में रोटियां लेकर..!!


तुम बदले तो मज़बूरिया थी

हम बदले तो बेवफा हो गए !!


अजब मुकाम पे ठहरा हुआ है काफिला जिंदगी का,

सुकून ढूढनें चले थे, नींद ही गवा बैठे..!!


तेरी याद से शुरू होती है मेरी हर सुबह,

फिर ये कैसे कह दूँ.. कि मेरा दिन खराब है..!!


बंद कर दिए है हमने दरवाज़ें “इश्क” के…

पर तेरी याद हे की “दरारों” मे से भी आ जाती हैं


जिंदगी सफ़र पर निकल चुकी है…

मंजिल कब मिलेगी तू ही बता ये मेरे खुदा..!!


जब मिलो किसी से तो जरा दूर का रिश्ता रखना,

बहुत तङपाते हैँ अक्सर सीने से लगाने वाले


बहुत कुछ खरीदकर भी..बहुत कुछ बचा लेता था..!

आज के जमाने से तो, वो बचपन का जमाना अच्छा था..!!


Two Line Shayari in Hindi

बड़े शौक से बनाया तुमने मेरे दिल मे अपना घर….

जब रहने की बारी आई तो तुमने ठिकाना बदल दिया|


जिंदगी के पन्ने कोरे ही अच्छे थे..

तूने सपनों की स्याही बिखेर कर दाग दाग कर दिया|


खटखटाए न कोई दरवाजा, बाद मुद्दत मैं खुद में आया हूँ…

एक ही शख़्स मेरा अपना है, मैं उसी शख़्स से पराया हूँ|


देखी जो नब्ज मेरी, हँस कर बोला वो हकीम,

जा जमा ले महफिल पुराने दोस्तों के साथ तेरे हर मर्ज की दवा वही है |


ऐ दिल चल छोड अब ये पहरे,

ये दुनिया है झूठी यहाँ लोग हैं लुटेरे|


Short Shayari in Hindi

हुस्न वालों को क्या जरूरत है संवरने की,

वो तो सादगी में भी क़यामत की अदा रखते हैं|


तूने ही लगा दिया इलज़ाम-ए-बेवफाई,

मेरे पास तो चश्मदीद गवाह भी तु ही थी|


काश तेरा घर मेरे घर के बराबर होता,

तू न आती तेरी आवाज तो आती रहती|


कभी जो मुझे हक मिला अपनी तकदीर लिखने का…..

कसम खुदा की तेरा नाम लिखुंगी और कलम तोड दुंगी…..


मौजूद थी अभी उदासी रात की,

बहला ही था दिल ज़रा सा के फ़िर भोर आ गयी|


ख्वाहिश-ए-ज़िंदगी बस इतनी सी है अब मेरी,

कि साथ तेरा हो और ज़िंदगी कभी खत्म न हो।


करम ही करना है तुझको तो ये करम कर दे….

मेरे खुदा तू मेरी ख्वाहिशों को कम कर दे।


बुरे हे हम तभी तो जी रहे हे..

अच्छे होते तो दुनिया जीने नही देती..


बहुत देता है तू उसकी गवाहियाँ और उसकी सफाईयाँ..

समझ नहीं आता तू मेरा दिल है या उसका वकील..!!


दिल मजबूर हो रहा है तुम से बात करने को

बस जिद ये है कि बात की शुरुआत तुम करो


मजबूर ना करेंगे तुझे वादे निभाने के लिए।

तू एक बार वापस आ अपनी यादें ले जाने के लिए|


दिल के किसी कोने में अब कोई जगह नहीं ऐ सनम,

कि तस्वीर हमने हर तरफ तेरी ही लगा रखी है|


एक तो सुकुन और एक तुम..

कहाँ रहते हो आजकल मिलते ही नही|


पता नही कब जाएगी तेरी लापरवाही की आदत…

पगली कुछ तो सम्भाल कर रखती, मुझे भी खो दिया|


तू होश में थी फिर भी हमें पहचान न पायी,

एक हम है कि पी कर भी तेरा नाम लेते रहे|


Two Line Shayari in Hindi

आ जाते हैं वो भी रोज ख्बाबो मे,

जो कहते हैं हम तो कही जाते ही नही


मोहब्बत का कोई रंग नही फिर भी वो रंगीन है,

प्यार का कोई चेहरा नही फिर भी वो हसीन हैं|


तुम्हें चाहने की वजह कुछ भी नहीं,

बस इश्क की फितरत है, बे-वजह होना….!!


हाल तो पूछ लू तेरा पर डरता हूँ आवाज़ से तेरी।

ज़ब ज़ब सुनी है कमबख्त मोहब्बत ही हुई है।


Two Line Shayari in Hindi

यह इनाएतें गज़ब की यह बला की मेहेरबानी

मेरी खेरियत भी पूछी किसी और की ज़बानी


जरूरत है मुझे नये नफरत करने वालो की ।

पुराने तो अब मुझे चाहने लगे है ।


चलते रहेगें शायरी के दौर मेरे बिना भी…

एक शायर के कम हो जाने से शायरी खत्म नहीं हो जाती|


हिंदी शायरी दो लाइन

सुनो तुम दिल दुखाया करो इजाजत है

बस कभी भूलने की बात मत करना…


सुकून की बातमत कर ऐ दोस्त..

बचपन वाला इतवार जाने क्यूँ अब नहीं आता।


मैंने कहा बहुत प्यार आता है तुम पर..

वो मुस्कुरा कर बोले और तुम्हे आता ही क्या है।


चेहरा बता रहा था कि मारा है भूख ने,

सब लोग कह रहे थे कि कुछ खा के मर गया।


सिखा दी बेरुखी भी ज़ालिम ज़माने ने तुम्हें,

कि तुम जो सीख लेते हो हम पर आज़माते हो।


वो जिनके हाथ में.. हर वक्त छाले रहते हैं..

आबाद उन्हीं के दम पर.. महल वाले रहते हैं|


Two Line Shayari in Hindi

ना शौक दीदार का, ना फिक्र जुदाई की,

बड़े खुश नसीब हैँ वो लोग … जो, मोहब्बत नहीँ करतेँ!


मोहब्बत कर सकते हो तो खुदा से करो ‘दोस्तों’

मिट्टी के खिलौनों से कभी वफ़ा नहीं मिलती


कुछ इस तरह बुनेंगे हम अपनी तकदीर के धागे

कि अच्छे अच्छो को झुकना पड़ेगा हमारे आगे!


Two Line Shayari in Hindi

बहुत ज़ालिम हो तुम भी मुहब्बत ऐसे करते हो

जैसे घर के पिंजरे में परिंदा पाल रखा हो|


मेरे अन्दर कुछ टूटा है

बस दुआ करो वो दिल ना हो…!!!!!


मोहब्बत न सही मुकदमा कर दे मुज पर …

कम से कम तारीख दर तारीख मुलाकात तो होगी ।


मुझे बदनाम करने का बहाना ढूँढ़ते हो क्यों,

मैं खुद हो जाऊंगा बदनाम पहले नाम होने दो।


जिन के आंगन में अमीरी का शजर लगता है,

उन का हर एब भी जमानें को हुनर लगता है।


तजुर्बा कहता है मोहब्बत से किनारा कर लूँ…

और दिल कहता हैं की ये तज़ुर्बा दोबारा कर लू|


ये झूठ है… के मुहब्बत किसी का दिल तोड़ती है ,

लोग खुद ही टुट जाते है, मुहब्बत करते-करत|


ऊँची इमारतों से मकां मेरा घिर गया,

कुछ लोग मेरे हिस्से का सूरज भी खा गए।


गर तेरी नज़र क़त्ल करने मे माहिर है तो सुन..

हम भी मर मर के जीने मे उस्ताद हो गए है|


दिल मेरा भी कम खूबसूरत तो न था,

मगर मरने वाले हर बार सूरत पे ही मरे !!


Two Line Shayari in Hindi

किसी की गलतियों को बेनक़ाब ना कर,

ईश्वर बैठा है, तू हिसाब ना कर।


ऐ दिल थोड़ी सी हिम्मत कर ना यार,

चल दोनों मिल कर उसे भूल जाते है।


मैं उसकी ज़िंदगी से चला जाऊं यह उसकी दुआ थी,

और उसकी हर दुआ पूरी हो, यह मेरी दुआ थी।


तुझे मुफ्त में जो मिल गए हम,

तु कदर ना करे ये तेरा हक़ बनता है।


रोना ही है ज़िन्दगी तो हँसाया क्यो..

जाना था दूर तो नज़दीक़ आया ही कयो..


रोने से और इश्क़ मे बे-बाक हो गए..

धोए गए हम इतने कि बस पाक हो गए।


Two Line Shayari in Hindi

कुछ लोग जमाने में ऐसे भी तो होते हैं..

महफिल में तो हंसते हैं तन्हाई में रोते हैं !!


तूने मेरा आज देख के मुझे ठुकराया है…

हमने तो तेरा गुजरा कल देख के भी मोहब्बत की थी|


एहसान जताना जाने कैसे सीख लिया..

मोहब्बत जताते तो कुछ और बात थी।


हिंदी शायरी दो लाइन

कितने मज़बूर है हम तकदीर के हाथो..

ना तुम्हे पाने की औकात रखतेँ हैँ,

और ना तुम्हे खोने का हौसला.!!


पहले ज़मीं बाँटी फिर घर भी बँट गया..

इनसान अपने आप मे कितना सिमट गया|


रूकता भी नहीं ठीक से चलता भी नही..

यह दिल है के तेरे बाद सँभलता ही नही|


सुनो एक बार और मोहब्बत करनी है तुमसे,

लेकिन इस बार बेवफाई हम करेंगे.


Two Line Shayari

तकलीफ़ मिट गई मगर एहसास रह गया..

ख़ुश हूँ कि कुछ न कुछ तो मेरे पास रह गया|


Door se hi ek roz jo unka salaam aaya,

Or hm umr bhr k liye unki mohabbat me giraftar ho gye


Humne hamare ishq ka, izhaar yun kiya,

Phoolon se tera naam, pathron pe likh diya


Short Shayari in Hindi

tna na sataya kare raat bhar na so sake hum,

Subah ko surkh ankhon ka sabab pochte hain log


Jara kisi ne muje cheda to Chalak padenge aasoo,

Koi mujse yu na pooche tera dil udaas kyun hain.


Sukhe Patte Ko Bhi Mil Rahi Hai Zindagi Hawaao Se,

Ekraar-e-Mohabbat Ne Jahan Ka Mosam Badal Diya


Ab Na Aage Badhu… Na Piche Hatoon,

Tum Se Tum Tak Thahar Gaya Hu Main


Peene Ko To Pee Jaun Zeher Bhi Uske Haatho Se Main..

Par Shart Ye Hai Ki Girte Waqt Wo Apni Baahon Mein Sambhale Mujhko


Ye Mana Ki Tumhari Nazar Mein Kuch Bhi Nahi Hai hum,

Arey Zara Jakar Unse Pucho Jinhe HAnsil Nahi Hai Hum…

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Pin It on Pinterest

Share This

Share Jokes

Share this post with your friends and Make them Laugh!